Aik Saathi Aur Bhi Tha Lyrics in English and Hindi – LOC Kargil

Aik Saathi Aur Bhi Tha – Sonu Nigam Lyrics

Aik Saathi Aur Bhi Tha Lyrics
Aik Saathi Aur Bhi Tha Lyrics

Singer

Sonu Nigam

Music

Anu Malik

Song Writer

Javed Akhtar

Aik Saathi Aur Bhi Tha Lyrics in English

Khaamosh hai jo
Ye wo sadaa hai
Wo jo nahin hai
Wo kah rahaa hai
Saathiyon tumko mile
Jit hi jit sadaa
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha
Jaao jo laut ke tum
Ghar ho khushi se bhara
Jaao jo laut ke tum
Ghar ho khushi se bhara
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha

Kal parbaton pe kahin
Barsi thi jab goliyaan
Ham log the saath mein
Aur hausle the javaan
Ab tak chattaanon pe
Hain apne lahoo ke nishaan
Saathi mubaarak tumhein
Ye jashn ho jit kaa
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha

Kal tumse bichhadi hui
Mamtaa jo phir se mile
Kal phool chehraa koi
Jab tumse milke khile
Kal tumse bichhadi hui
Mamtaa jo phir se mile
Kal phool chehraa koi
Jab tumse milke khile
Paao tum itni khushi
Mit jaayein saare gile
Hai pyaar jinse tumhein
Saath rahe wo sadaa
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha

Jab aman ki baansuri
Goonje gagan ke tale
Jab dosti kaa diyaa
In sarhadon pe jale
Jab bhool ke dushmani
Lag jaaye koi gale
Jab saare insaano
Kaa ho ek hi kaafilaa
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha
Jaao jo laut ke tum
Ghar ho khushi se bhara
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha
Bas itnaa yaad rahe
Ek saathi aur bhi tha

Aik Saathi Aur Bhi Tha Lyrics in Hindi

खामोश है जो
ये वो सदा है
वो जो नहीं है
वो कह रहा है
साथियों तुमको मिले
जीत ही जीत सदा
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था
जाओ जो लौट के तुम
घर हो ख़ुशी से भरा
जाओ जो लौट के तुम
घर हो ख़ुशी से भरा
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था

कल पर्बतों पे कहीं
बरसी थी जब गोलियां
हम लोग थे साथ में
और हौसले थे जवान
अब तक चट्टानों पे
हैं अपने लहू के निशाँ
साथी मुबारक तुम्हें
ये जश्न हो जित का
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था

कल तुमसे बिछड़ी हुई
ममता जो फिर से मिले
कल फूल चेहरा कोई
जब तुमसे मिलके खिले
कल तुमसे बिछड़ी हुई
ममता जो फिर से मिले
कल फूल चेहरा कोई
जब तुमसे मिलके खिले
पाओ तुम इतनी ख़ुशी
मिट जाएँ सारे गिले
है प्यार जिनसे तुम्हें
साथ रहे वो सदा
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था

जब अमन की बांसुरी
गूँजे गगन के तले
जब दोस्ती का दिया
इन सरहदों पे जले
जब भूल के दुश्मनी
लग जाए कोई गले
जब सारे इंसानों
का हो एक ही काफिला
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था
जाओ जो लौट के तुम
घर हो ख़ुशी से भरा
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था
बस इतना याद रहे
एक साथी और भी था

Leave a Reply

Your email address will not be published.