Hame Jab Se Mohabbat Ho Gai Hai Lyrics in English

Mahi mahi motiyan wala
Mera sona dachiyan wala
Mahi mahi motiyan wala
Mahi mahi motiyan wala

Hume jabse mohabbat ho gayi hai
Ye duniya khubsurat ho gayi hai
Hume jabse mohabbat ho gayi hai
Ye duniya khubsurat ho gayi hai
Hume jabse mohabbat ho gayi hai…

Fizaavon me nayi ek roshni hai
Havaavon me ajab si tazgi hai
Tum is wadee me mujhse mil rahi ho
Zameen lagta hai jaise ga rahi hai
Nayi rut ki mahurat ho gayi hai
Ye duniya khubsurat ho gayi hai
Hume jab se ……

Mai kheto me bani pagdandiyo par
Tumhara hath thame chal raha hu
Hai picghla sham ke suraj ka sona
Magar mai sirf tumko dekhta hu
Ajab is dil ki halaat ho gai hai
Ye duniya khubsurat ho gayi hai
Hume jab se…..

Hai lipti dhund me dilkash nazare
Nadi khamosh hai chup hain kinare
Hai ek chhoti si kaashti aur hum hai
Chale jate hain lehron ke sahare
Suhani ab lo sangaat ho gayi hai
Ye duniya khubsurat ho gayi hai
Hume Jab Se…..

Ye sare log bilkul bekhabar hai
Mai dil hi dil me sapne bun rahi hu
Nigahe jo tumhari kah rahi hai
Mai in aankho se wo sab sun rahi hu
Anokhi apni chahat ho gayi hai
Ye duniya khubsurat ho gayi hai

Hume jabse mohabbat ho gayi hai
Ye duniya khubsurat ho gayi hai
Hume jabse mohabbat ho gayi hai…..

Mahi mahi motiyan wala
Mera sona dachiyaan wala
Mahi mahi motiyaan wala
Mahi mahi motiyan wala…..

Hame Jab Se Mohabbat Ho Gai Hai Lyrics in Hindi

माही माही, मोतियाँ वाला
मेरा सोना डाचिया वाला
माही माही, मोतियाँ वाला
माही माही, मोतियाँ वाला,

हमें जब से मोहब्बत हो गई है
ये दुनिया खूबसूरत हो गई है
हमे जब से मोहब्बत हो गई है
ये दुनिया खूबसूरत हो गई हैं
हमे जब से मोहब्बत हो गई हैं…..

फिजाओं में नयी एक रोशनी है
हवाओं में अजब सी ताज़गी है
तुम इस वादी में मुझसे मिल रही हो
ज़मीं लगता है जैसे गा रही है
नयी रुत की महूरत हो गयी है
ये दुनिया खूबसूरत हो गई हैं
हमे जब से…..

है लिपटे धुंध में दिलकश नज़ारे
नदी खामोश है, चुप है किनारे
है इक छोटी सी कश्ती, और हम हैं
चले जाते हैं लहरों के सहारे
सुहानी अपनी संगत हो गयी है
ये दुनिया खूबसूरत हो गई है
हमे जब से……

मैं खेतों में बनी पगडंडियों पर
तुम्हारा हाथ थामें चल रहा हूँ
है पिघला शाम के सूरज का सोना
मगर मैं सिर्फ़ तुमको देखता हूँ
अजब इस दिल की हालत हो गयी है
ये दुनिया खूबसूरत हो गई हैं
हमे जब से……

ये सारे लोग बिलकुल बेख़बर हैं
मैं दिल ही दिल में सपनें बुन रही हूँ
निगाहें जो तुम्हारी कह रही हैं
मैं इन आखों से वो सब सुन रही हूँ
अनोखी अपनी चाहत हो गयी है
ये दुनिया खूबसूरत हो गई है
हमे जब से …….

Leave a Reply

Your email address will not be published.