Maine Pucha Chand Se Lyrics – Abdullah

Maine Pucha Chand Se Lyrics – Mohammad Rafi Lyrics

Maine Pucha Chand Se Lyrics
Maine Pucha Chand Se

Singer

Mohammad Rafi

Music

R D Burman

Song Writer

Anand Bakshi

Maine Pucha Chand Se Lyrics in English

Maine puchha chand se ke dekha hai kahee
Mera yar sa hasin
Chand ne kaha, chandni kee kasam
Nahee, nahee, nahee
Maine puchha chand se ke dekha hai kahee
Mera yar sa hasin
Chand ne kaha, chandni kee kasam
Nahee, nahee, nahee
Maine puchha chand se
Maine yeh hee jaab tera dhundha,
Har jagah shabab tera dhundha
Kaliyo se misaal teri puchhi,
Phulo ne jawab tera dhundha
Maine puchha bag se, falak ho ya zamin,
Aisa phul hai kahee
Bag ne kaha har kali kee kasam
Nahee nahee nahee
Maine puchha chand se
Ho, chal hai ke mauj kee rawani,
Zulf hai ke rat kee kahani
Hont hain ke aayine kawal ke
Aankh hai ke mahka do kee rani
Maine puchha jaam se, falak ho ya zamin,
Aisi meh bhi hai kahee
Jaam ne kaha mehkashi kee kasam
Nahee nahee nahee
Maine puchha chand se
Khubsurati jo tune payi
Lut gayi khuda kee bas khudayi
Mir ke ghazal kahu tujhe mai,
Ya kahu khaiyyaam kee rubayi
Mai jo puchhun shayaro se, aisa dil nashi
Koyi sher hai kahee
Shayar kahe shayari kee kasam,
Nahee nahee nahee
Maine puchha chand se ke dekha hai kahee
Mera yar sa hasin
Chand ne kaha, chandni kee kasam
Nahee, nahee, nahee
Maine puchha chand se

Maine Pucha Chand Se Lyrics in Hindi

मैंने पूछा चाँद से कि
देखा है कहीं मेरे यार सा हसीं
चाँद ने कहा, चांदनी की क़सम
नहीं, नहीं, नहीं…मैंने पूछा चाँद से…

मैंने ये हीज़ाब तेरा ढूंढा
हर जगह शबाब तेरा ढूंढा
कलियों से मिसाल तेरी पूछी
फूलों ने जवाब तेरा ढूंढा
मैंने पूछा बाग से, फ़लक हो या जमीं
ऐसा फूल है कहीं
बाग़ ने कहा हर कली की क़सम नहीं
नहीं, नहीं… मैंने पूछा चाँद से…

हो.. चाल है की मौज की रवानी
जुल्फ़ है की रात की कहानी
होंठ है की आईने कवल के
आँख है के महका दो की रानी
मैंने पूछा जाम से, फ़लक हो या जमीं
ऐसी मह भी है कहीं
जाम ने कहा महकशीं की क़सम नहीं
नहीं, नहीं.. मैंने पूछा चाँद से…

खुबसूरती जो तूने पाई
लुट गयी ख़ुदा की बस ख़ुदाई
मीर के गज़ल कहूँ तुझे मैं या
कहूँ खीयाम की रुबाई
मैं जो पूछूं शायरों से
ऐसा दिल नाशी कोई शेर है कहीं
शायर कहे शायरी की क़सम
नहीं, नहीं, नहीं…

मैंने पूछा चाँद से कि देखा है कहीं
मेरे यार सा हसीं
चाँद ने कहा, चांदनी की क़सम
नहीं, नहीं, नहीं.. मैंने पूछा चाँद से..

Leave a Reply

Your email address will not be published.